MP Board Class 11th English The Spectrum Solutions Chapter 12 The Wise Judge

MP Board Class 11th English The Spectrum Solutions Chapter 12 The Wise Judge

The Wise Judge Textual Questions and Answers

Word Power

A. Add the suffix ‘logue’ to the following :
निम्नलिखित में ‘logue’ प्रत्यय को जोड़ो।
Answer:

  • monologue
  • dialogue
  • prologue
  • epilogue
  • travelogue.

B. Match the words in column A with their meanings in column B :
कॉलम A के शब्दों का कॉलम B में दिये गये अर्थों से मिलान करो।
Answer:
1+ 5, 2 + 3,3+2,4 + 1,5+ 4.

Comprehension

A Answer the following questions in one or two sentences each.
इन प्रश्नों का उत्तर एक या दो वाक्यों में दीजिए।

Scene : 1

Question 1.
Who was Mustafa ? (2009, 10, 15)
मुस्तफा कौन थे?
Answer:
Mustafa was the Caliph of Baghdad.
मुस्तफा बगदाद के खलीफा थे।

Question 2.
According to All, what did the law say ?
अली के कथनानुसार, कानून क्या था ?
Answer:
According to Ali, the law said that you should not only give alms to your brothers but also help them as much as you could
अली के कथनानुसार, कानून कहता था कि तुम्हें न केवल अपने भाइयों को भिक्षा देनी चाहिए बल्कि उनकी जितनी मदद कर सकते हो करनी चाहिए।

Question 3.
Why did Mustafa agree to take the case to the judge ? (2008, 09, 14, 15, 16)
मुस्तफा मामले को न्यायाधीश के सामने ले जाने को क्यों तैयार हो गये ?
Answer:
Mustafa agreed because he thought it was a good opportunity to test the wisdom of the judge.
मुस्तफा इसलिए राजी हो गया क्योंकि उनके विचार से यह न्यायाधीश की बुद्धिमानी की परीक्षा का एक अच्छा अवसर था।

Scene : 2

Question 4.
For whom did the farmer and the writer quarrel ?
किसान और लेखक का झगड़ा किसको लेकर था ?
Answer:
They quarrelled for the ownership of the slave.
किसान और लेखक का झगड़ा गुलाम को लेकर था।

Question 5.
What were the butcher and the oil merchant quarrelling about?
कसाई और तेल के व्यापारी का झगड़ा किसको लेकर था ?
Answer:
They were quarrelling about the money.
वे पैसों को लेकर झगड़ रहे थे।

Scene : 3 and 4

Question 6.
Whom did the judge decide to give the slave to ?
न्यायाधीश ने गुलाम को किसका देने का फैसला किया ?
Answer:
He decided to give the slave to the writer.
उसने गुलाम को लेखक को देने का फैसला किया।

Question 7.
What punishment was given to the farmer?
किसान को क्या सजा दी गई?
Answer:
The farmer was given fifty blows.
किसान को पचास थप्पड़ मारे जाने की सजा मिली।

Scene : 5

Question 8.
Why was Mustafa surprised at the judgements?
मुस्तफा फैसलों पर आश्चर्यचकित क्यों थे ?
Answer:
Mustafa was surprised because all his judgements were just.
मुस्तफा इसलिए आश्चर्यचकित थे क्योंकि सभी फैसले उचित थे।

Question 9.
Who did the horse turn towards ?:
घोड़ा किसकी ओर मुड़ा ?
Answer:
The horse turned towards Mustafa.
घोड़ा मुस्तफा की तरफ मुड़ा।

Question 10.
How was the judge honoured by Mustafa ?
मुस्तफा के द्वारा न्यायाधीश का कैसा सम्मान किया गया ?
Answer:
Mustafa made the office of the judge highest in the land, next to his own.
मुस्तफा ने उसके पद को देश का सर्वोच्च पद, उनके स्वयं के पद के बाद बना दिया।

B. Answer the following questions in three or four sentences each.
इन प्रश्नों का तीन या चार वाक्यों में उत्तर दीजिए।।

Scene : 1

Question 1.
Why did Mustafa dress himself like a common man ? (2008, 13)
मुस्तफा ने आम आदमियों जैसे कपड़े क्यों पहने थे?
Answer:
Mustafa had heard about the wisdom of the judge. He wanted an opportunity to test it. So he dressed like a common man in order to hide his identity.

मुस्तफा ने न्यायाधीश की बुद्धिमानी के बारे में सुना था। वह उसको परखने का मौका चाहता था। इसलिए उसने आम आदमी के समान कपड़े पहन रखे थे ताकि उसकी पहचान उजागर न हो।

Question 2.
Why did Ali refuse to get down the horse? अली ने घोड़े से उतरने से क्यों इन्कार कर दिया ?
Answer:
Ali was a poor beggar. He was lame also. So he wanted to claim the ownership of the horse.
अली एक गरीब भिखारी था। वह लँगड़ा भी था। अत: वह उस घोड़े का मालिक होने का दावा करना चाहता था।

Scene : 2

Question 3.
What did the writer say to the judge ?
लेखक ने न्यायाधीश से क्या कहा ?
Answer:
He said that the boy was his slave. He had taught the boy to be very useful to him. The farmer had stolen the boy last week.

उसने कहा कि वह लड़का उसका गुलाम था। उसने उस लड़के को अपने यहाँ काम करना सिखाया था। किसान ने उस लड़के को पिछले हफ्ते चुरा लिया था।

Question 4.
Write in your own words the butcher’s version of his quarrel with the oil merchant.
तेल के व्यापारी से हुए झगड़े के बारे में कसाई के बयान को अपने शब्दों में व्यक्त करो।
Answer:
The butcher went to the oil merchant to buy some oil. He took out some money from his pocket in order to pay for the oil. The sight of the money tempted the merchant and he tried to snatch the money from the butcher.

कसाई, तेल के व्यापारी से तेल खरीदने गया था। तेल के पैसे देने के लिए उसने कुछ पैसे अपनी जेब से निकाले। पैसों को देखकर तेल के व्यापारी के मन में लालच उत्पन्न हो गया और उसने कसाई से पैसों को झपटना चाहा।

Question 5.
How did the oil merchant plead his case ?
तेल के व्यापारी ने अपने मामले की कैसे पैरवी की ?
Answer:
This man came to buy some oil. When I gave back his jar he wanted change for a gold coin. When I put some money on the barrel of oil he snatched them and wanted to run away. At that time I caught hold of his wrist.

यह आदमी मेरे यहाँ तेल खरीदने आया था। जब मैंने इसका डिब्या इसे दिया तो इसने एक सोने के सिक्के का खुदरा चाहा। मैंने जैसे ही कुछ पैसे तेल के पीपे पर रखे यह उन्हें लेकर भागने लगा। तब मैंने इसकी कलाई पकड़ ली।

Question 6.
What was Mustafa’s complaint to the judge ?
न्यायाधीश से मुस्तफा ने क्या शिकायत की ?
Answer:
He said that he had come from a distant place to the city. At the gate of the city he met this lame beggar who asked for alms in the name of Allah and then wanted a ride to the market place. On reaching the market he refused to get off and started claiming the ownership of the horse.

उसने कहा कि वह एक दूरस्थ स्थान से शहर आया था। शहर के दरवाजे पर उसे यह लँगड़ा भिखारी मिला जिसने अल्लाह के नाम पर भीख चाही फिर बाजार तक घोड़े पर बैठकर चलना चाहा। बाजार आने पर इसने उतरने से इन्कार किया और घोड़े पर मालिकाना हक जताने लगा।

Question 7.
What did the judge say at the end of the day? दिन की समाप्ति पर न्यायाधीश ने क्या कहा ?
Answer:
The judge asked Mustafa and Ali to leave the horse and go. He also asked them to come the next day. He told the officer that he will hear the cases the next day.

न्यायाधीश ने मुस्तफा और अली को घोड़ा वहीं छोड़कर जाने को कहा। उन्होंने उनसे अगले दिन फिर आने को भी कहा। उन्होंने अधिकारी से कहा कि वे सारे मुकदमे अगले दिन सुनेंगे।

Scene : 3-4

Question 8.
What was the judge’s decision in the case of the butcher and the oil merchant ? What punishment did he decide for the oil merchant?
कसाई और तेल के व्यापारी के मामले में न्यायाधीश का फैसला क्या था ? उन्होंने तेल के व्यापारी के लिए क्या सज़ा निश्चित की ?
Answer:
He decided that the money belonged to the butcher. The oil merchant had no claim on it. He also decided that the oil merchant be given forty lashes as punishment for his dishonesty.

उन्होंने फैसला दिया कि पैसे कसाई के हैं। तेल के व्यापारी का उन पर कोई हक नहीं हैं। तेल के व्यापारी को उसकी बेईमानी के लिए चालीस कोड़े मारे जाने की सजा भी दी।

Question 9.
What did the judge ask Mustafa and Ali to do?
न्यायाधीश ने मुस्तफा और अली से क्या करने को कहा ?
Answer:
He asked Mustafa and Ali to come with him to the stable. Then he first asked Mustafa to go and identify his horse. Then he asked Ali to go and identify the horse.

उन्होंने मुस्तफा और अली को अपने साथ अस्तबल तक आने को कहा। फिर उन्होंने पहले मुस्तफा को जाकर अपना घोड़ा पहचानने के लिए कहा। फिर उन्होंने अली से जाकर घोड़ा पहचानने को कहा।

Scene : 5

Question 10.
How did the judge decide the case of the writer and the farmer?
न्यायाधीश ने लेखक और किसान के मामले में किस आधार पर फैसला दिया ?
Answer:
He called the slave and by signs asked him to put ink in his inkstand. The slave did it quickly and carefully. This made him conclude that the slave belonged to the writer.

उन्होंने गुलाम को बुलाकर इशारे से उसे अपनी दवात में स्याही डालने को कहा। उसने यह बहुत जल्दी और सावधानीपूर्वक कर दिया। इस पर न्यायाधीश न निष्कर्ष निकाला कि गुलाम लेखक का था।

Question 11.
How did the judge come to know that the oil merchant was guilty?
न्यायाधीश ने यह कैसे जाना कि तेल का व्यापारी गुनाहगार था ?
Answer:
He put the money in a jug filled with water. Next morning he found no drops of oil on the surface of water. This made him conclude that the money did not belong to the oil merchant.

उन्होंने उन पैसों को पानी से भरे एक जग में डाल दिया। सुबह पानी की सतह पर तेल की बूंदे नहीं दिखी। इससे उन्होंने निष्कर्ष निकाला कि पैसे तेल के व्यापारी के नहीं

Question 12.
Justify the title of the lesson ‘The Wise Judge’. (2009, 16)
पाठ के शीर्षक ‘बुद्धिमान न्यायाधीश’ का औचित्य प्रमाणित करो।
Answer:
There were no eyewitnesses to guide the judge. He showed great intelligence in evolving circumstantial evidences. Hence the title of the lesson is quite apt.

न्यायाधीश के सामने कोई प्रत्यक्षदर्शी गवाह नहीं थे। उन्होंने बहत बद्धिमानी से प्रासंगिक साक्ष्य विकसित किये। अत: पाठ का शीर्षक बिल्कुल उचित है।

Language Practice 

इस खण्ड के मूल प्रश्न व तालिकाएँ अपनी पाठ्य-पुस्तक में से देखिए। यहाँ केवल उनके उत्तर दिए जा रहे हैं।
A. Write in the given brackets the functions of the modal.
दिए गए कोष्ठक में Modal का कार्य लिखिए।
Answer:

  • Threat
  • Certainty
  • Possibility
  • Permission
  • Doubt.

B. Write in the given bracket the functions of the modals.
[दिए गए कोष्ठक में modal का कार्य लिखिए।
Answer:

  • Education
  • Possibility
  • Suggestion
  • Possibility
  • Advice.

C. Write in the given brackets the functions of the following models.
दिए गए कोष्ठक में modals का कार्य लिखिए।।
Answer:

  • Promise
  • Determination
  • Possibility
  • Permission
  • Determination.

D. Write in the given brackets the function of the modals.
दिए गए कोष्ठक में modal का कार्य लिखिए।
Answer:

  • Request
  • Willingness
  • Request
  • Determination
  • Conclusion.

E. Look at the pictures in the book and write what they can or can’t do.
पुस्तक में दिये गये चित्रों को देखकर लिखों ये क्या कर सकते हैं और क्या नहीं ?
Answer:

  • He can lift weights.
  • He can’t dig holes.
  • He can’t stand on his head.
  • The boy can’t run.
  • She can ride a bicycle.

F. Fill in the blanks with Can or Could. Use negative if necessary.
Can या Could से रिक्त स्थान भरो। जरूरी हो तो negative का प्रयोग करें।।
Answer:

  • could.
  • can’t
  • could
  • can
  • could
  • couldn’t
  • could.

G. Use Can, Could or May and fill in the blanks.
Can, Could या May का उपयोग करके रिक्त स्थान भरो।
Answer:

  • Can
  • May
  • Could
  • Can
  • Could.

H. What do the signs mean?
संकेतों का क्या अर्थ है ?
Answer:

  • You can park bicycles here.
  • You can’t blow horn here.
  • You can refuel your vehicle here.
  • You can’t park here anytime.
  • You can drink water here.

I. Use Can or May and fill in the blanks.
Answer:

  • can
  • can’t
  • may
  • can’t
  • may.

J. Fill in the blanks using modals to denote possibility.
Answer:

  • may
  • might
  • could
  • can
  • Can.

K. Rewrite these sentences using the modals given in brackets.
कोष्ठक में दिए गए modals का उपयोग करके वाक्य लिखो।
Answer:

  • Only members may enter through this gate.
  • You can pay your fees in advance.
  • The librarian may ask for your identity card.
  • The teacher may permit you to submit your homework tomorrow.
  • It might be Anand who betrayed us.
  • He could still try to get a job.
  • They might be delayed by traffic jam.
  • Could he be still sleeping ?

दुश्य-एका

स्थान — बगदाद की एक सड़क।
पात्र — मुस्तफा (खलीफा), अली (एक अपाहिज भिखारी)
अली— (घोड़े पर जा रहे मुस्तफा के लबादे का छोर पकड़कर) दान, महाशय, अल्लाह के नाम पर दान।।
मुस्तफा (उसे कुछ पैसे देते हुए) — यह लो और अल्लाह तुम पर मेहरबान हो। (अली फिर भी लबादा पकड़े रहता है, अब तुम्हें और क्या चाहिए ? क्या मैंने तुम्हें काफी नहीं दे दिया है ?
अली — हाँ, महाशय; लेकिन न्याय यह कहता है कि आप न केवल अपने समधर्मी को भीख देंगे बल्कि उसकी जितनी हो सकती है मदद करेंगे।
मुस्तफा — ठीक है, मैं तुम्हारे लिए और क्या कर सकता हूँ?
अली — आप इस भीड़भाड़ वाली सड़क पर मनुष्यों और जानवरों से मेरी रक्षा कर सकते
मुस्तफा — मैं तुम्हें कैसे बचा सकता हूँ?
अली — मुझे अपने पीछे बैठाकर सुरक्षित बाजार तक पहुँचाकर।
मुस्तफा ठीक है, पीछे बैठ जाओं (मुस्तफा उतरकर उसे बैठने में मदद करते हैं और बाजार में आकर उससे कहते हैं) लो, हम बाजार पहुँच गये। तुम यहीं आना चाहते थे ना ?
अली-जी। मुस्तफा—(अधीर होते हुए) तो उतरो।
अली-नहीं, नहीं। आप उतरिये।
मुस्तफा–पर क्यों ?
अली–ताकि मैं घोड़ा ले सकूँ।
मुस्तफा — ताकि मैं घोड़ा ले सकूँ! तुम्हारा क्या मतलब है ?
अली — मेरा मतलब है कि यह घोड़ा मेरा है। अगर आप नहीं उतरते तो मैं मामले को न्यायाधीश के सामने ले जाऊगाँ और वे निश्चय ही मेरे पक्ष में फैसला देंगे।
मुस्तफा — पर वे ऐसा क्यों करेंगे जबकि घोड़ा मेरा है ?
अली — जब वे हमें देखेंगे-तुम्हारे हष्ट-पुष्ट शरीर को जिसे अल्लाह ने तुम्हें दिया है और मुझे इन टूटी टाँगों के साथ-तो वे फैसला देंगे कि घोड़ा मेरा है क्योंकि उसकी मुझे ज्यादा जरूरत है।
मुस्तफा — अगर वे ऐसा करते हैं तो वे बुद्धिमान न्यायाधीश नहीं हैं।
अली — (हँसते हुए) खलीफा तो बुद्धिमान है ना, पर वह भी अन्य लोगों के समान गलती कर सकता है। इसका सबूत क्या है कि यह घोड़ा तुम्हारा है ?
मुस्तफा—(अपने आपसे) न्यायाधीश की बुद्धिमानी को परखने का यह एक अच्छा मौका
अली — आप अपने आपसे क्या कह रहे थे ?
मुस्तफा—तुम्हारे मतलब का कुछ नहीं, मेरे चालक भिखारी। लेकिन मैं इस बात से समतल हूँ कि हमें न्यायाधीश के पास जाना चाहिए।

दुश्य-दो

स्थान — न्यायाधीश का कक्षा
पात्र — न्यायाधीश, लेखक, किसान, कसाई. तेल का व्यापारी, मुस्तफा, अली, अधिकारीगण। (लेखक और किसान के बीच एक नौजवान गुलाम को लेकर विवाद था कि वह किसका है। गुलाम गूंगा और बहरा है, अतः यह नहीं बता सकता कि उसका मालिक कौन है। जिस समय मुस्तफा और अली आते हैं तब न्यायाधीश इसी मुकदमे की सुनवाई करने जा रहे थे।)
न्यायाधीश क्या लेखक, किसान और गुलाम हाजिर हैं ?
अधिकारी — (झुककर) हैं, महोदय। न्यायाधीश-पहले किसान को बोलने दो।
किसान — (अत्यधिक झुककर) महान् न्यायाधीश, यह लड़का जो आप देख रहे हैं, यह मेरा गुलाम है। मैने उसे पिछले हफ्ते ही खरीदा है। मैं आपसे अनुरोध करता हूँ कि मुझे मेरा गुलाम वापस दिला दीजिए।
लेखक (उत्सुकता के साथ) यह सच नहीं है, महोदय! यह लड़का कई सालों से मेरा गुलाम रहा है। मैंने इसे अपने लिए काफी उपयोगी बना लिया है। इस किसान ने पिछले हफ्ते इसे चुरा लिया था और अब कहता है कि उसने इसे बाजार से पिछले हफ्ते खरीदा है। मैं प्रार्थना करता हूँ कि मेरा गुलाम मुझे वापस दिला दीजिए।
न्यायाधीश — मैं इस मामले में निर्णय लूँगा। इस लड़के को यहीं छोड़ दो और कल आओ। (किसान और लेखक बाहर जाते हैं) अब कौन-सा मुकदमा है ?
अधिकारी — कसाई और तेल के व्यापारी का।
न्यायाधीश — उन्हें आगे आने दो (वे आगे आते हैं, व्यापारी कसाई की कलाई पकड़े है)।
न्यायाधीश — मैं पहले सुनना चाहूँगा कि कसाई को क्या कहना है ?
कसाई (अत्यधिक झुककर) महोदय, मैं इस आदमी के पास कुछ तेल खरीदने के लिए गया था। तेल के पैसे देने के लिए मैंने अपनी जेब से कुछ पैसे निकाले। उन्हें देखकर शायद इसके मन में लालच आ गया क्योंकि उन्हें मुझसे लेने के लिए इसने मेरी कलाई पकड़ ली। अब हम आपके सामने आए हैं, महान न्यायाधीश मेरे पैसे मेरी मुट्ठी में है और यह मेरी कलाई पकड़े हैं। न्यायाधीश तेल के व्यापरी, अब तुम बताओ। तुम्हें क्या कहना है ?
तेल का व्यापारी-यह आदमी मेरे यहाँ तेल खरीदने आया था। जब मैंने मर्तबान इसे दिया इसने मुझसे पूछा कि क्या मैं एक सोने के सिक्के का खुदरा इसे दे सकता हूँ? मैंने कुछ पैसे निकाले और उन्हें पीपे पर रखा। इसने झट से उन्हें झपटा और भागने लगा।
तभी मैंने इसकी कलाई पकड़ ली और चिल्लाया “डाकू !” मैं घोषित करता हूँ कि यह पैसा मेरा है।”
न्यायाधीश-पैसा मेरे पास छोड़ जाओ और कल आओ !
(वे एक अधिकारी को पैसा दे देते हैं, झुकते हैं और बाहर चले जाते हैं।) दूसरे मुकदमे के लिए कौन आ रहा हैं ?
अधिकारी-दो लोग है, महोदय ! दोनों एक सुन्दर अरबी घोड़े पर अपना दावा कर रहे हैं।
न्यायाधीश- उन्हें आगे आने दो (मुस्तफा और अली दोनों आगे आकर झुककर अभिवादन करते हैं। न्यायाधीश मुस्तफा की ओर मुखातिब होते हैं) तुम्हें क्या कहना है?
‘मुस्तफा-(पुनः झुककर) महोदय, मैं एक दूर देश से आपके शहर आया था। मुख्य द्वारा पर ही यह लंगड़ा आदमी मुझे मिला। इसने अल्लाह के नाम पर भीख चाही और फिर बाजार तक मेरे पीछे बैठकर आने का आग्रह किया। जब हम लोग वहाँ पहुँचे तो इसने उतरने से इन्कार किया और कहा कि यह घोड़ा तो इसका है। ‘न्यायाधीश-अब लँगड़े आदमी को बताने दो।
लँगड़ा आदमी-महोदय, यह सच नहीं है। जब मैं इस घोड़े पर सवार होकर बाजार की तरफ जा रहा था मुझे एक यात्री दिखाई दिया। वह बुरी तरह से थका हुआ था। मैं अपनी दयालुता के कारण उसे अपने साथ घोड़े पर बैठाकर बाजार तक ले आया। उसने घोड़ें से उतरने से इन्कार किया और दावा करने लगा कि मेरा घोड़ा उसका है।
न्यायाधीश-घोड़ा छोड़ जाओ और कल आओ। (अधिकारी) मैं इन मुकदमों की सुनवाई कल फिर करूंगा।

दुश्य–तीन

स्थान न्यायाधीश का कक्ष।
समय—अगला दिन। पात्र-वही सब।
न्यायाधीश — लेखक और किसान, कहाँ हैं ? अधिकारी (झुककर) हाजिर है, महोदय।
न्यायाधीश — लेखक को आगे आने दो (लेखक आगे आकर झुकता है) गुलाम तुम्हारा है-यह मेरा फैसला है। उसे ले जाओ। अधिकारी, किसान को गुलाम चुराने और झूठ बोलने के लिए पचास थप्पड़ मारो। (लेखक प्रसन्न होकर अपने गुलाम के साथ बाहर जाता है, अधिकारी किसान को बाहर ले जाता है)अब तेल के व्यापारी और कसाई को आगे आने दो। कसाई, ये पैसे लो, ये वास्तव में तुम्हारे हैं और तेल के व्यापारी का इनके किसी भाग पर भी अधिकार नहीं है, शान्तिपूर्वक जाओ। अधिकारी, इस तेल के व्यापारी को चालीस कोड़े मारो ताकि भविष्य में यह कभी बेइमानी न करे। (तेल का व्यापारी बाहर ले जाया जाता है) अब मुस्तफा और अली को आगे आने दो। मुस्तफा, क्या तुम दूसरे घोड़ों के बीच अपन घोड़े को पहचान लोगे ?
मुस्तफा—निश्चित ही, महोदय।
न्यायाधीश — मेरे पीछे आओ।

दुश्य-चार

स्थान — अस्तबल।
पात्र — न्यायाधीश, अधिकारी, मुस्तफा।
न्यायाधीश — मुस्तफा, अपना घोड़ा पहचानो।
मुस्तफा — (अपने घोड़े के पास जाकर) यह है, महोदय।
न्यायाधीश — न्यायालय के कक्ष में वापस चले जाओ। अधिकारी, अली को लाओ। (मुस्तफा बाहर जाता है और अधिकारी अली के साथ वापस आता है।)
न्यायाधीश–अली, तुम्हारा घोड़ा कौन-सा है ?
अली — (विश्वास के साथ उसी घोड़े के पास जाता है।) महोदय, यह मेरा है।
न्यायाधीश — ठीक। अब कक्ष में वापस चलें।

दुश्य-पाँच

स्थान — न्यायालय का कक्ष। पात्र न्यायाधीश, अली, मुस्तफा, अधिकारी।
न्यायाधीश— मुस्तफा, घोड़ा तुम्हारा है। अस्तबल जाकर उसे ले लो। अधिकारी, इस बदमाश को पचास कोड़े मारो। यह उनका पात्र है, क्योंकि इसने उस व्यक्ति को हानि पहुँचाने की कोशिश की थी जिसने इसके ऊपर उपकार किया था। मुस्तफा को छोड़कर सभी बाहर जाते हैं। मुस्तफा, तुम क्यों इन्तजार कर रहे हो ? क्या तुम फैसले से सन्तुष्ट नहीं हो ?
मुस्तफा — पूरी तरह से, न्यायाधीश! मैं सन्तुष्ट हूँ किन्तु मैं यह जानना चाहूँगा कि आप इस निर्णय पर पहुँचे कैसे; क्योंकि मैं निश्चयपूर्वक कह सकता हूँ कि आपके फैसले पहले के दो मुकदमों में भी उतने ही सही हैं जितना मेरे में। मालूम हो कि मैं बगदाद का खलीफा, मुस्तफा हूँ और यहाँ तुम्हारी परीक्षा लेने आया था। मुझे समझाओ कि तुम अपने निर्णयों पर किस प्रकार पहुँचे ।
न्यायाधीश — (घुटनों के बल झुकते हुए) महोदय, ईश्वर आपको ख्याति और समृद्धि प्रदान करे।
मुस्तफा — उठो मित्र, मैं चाहता हूँ कि तुम मुझे बताओ कि किन तर्कों के आधार पर तुमने अपने फैसले दिये।
न्यायाधीश — श्रीमान् ! यह तो बहुत आसान था। श्रीमन्त ने देखा कि मैंने अपने फैसले आज के लिए स्थगित कर दिये थे।
मुस्तफा — हाँ, मैंने यह देखा था।
न्यायाधीश — आज सुबह मैंने गुलाम को बुलाया और इशारे से उसे मेरी दवात में स्याही डालने को कहा। उसने इस काम को शीघ्र तथा सावधानीपूर्वक किया मानो उसने यह पहले भी सैकड़ों बार किया हो। मैंने अपने आपसे कहा, “यह लड़का किसान का गुलाम नहीं रहा है, यह लेखक का ही है।”
मुस्तफा — बहुत खूब ! और कसाई के बारे में ? उसमें तुमने अपना फैसला कैसे किया ?
न्यायाधीश आपने देखा था, श्रीमान् ! तेल के व्यापारी के कपड़े और हाथों पर तेल था।
मुस्तफा— हाँ, मैंने ध्यान दिया था।
न्यायाधीश कल रात मैंने उन पैसों को पानी के भरे हुए जग में डाल दिया। आज सुबह जब मैंने देखा तो पाया कि पानी की सतह पर जरा-सा भी तेल नहीं था। अगर ये पैसे तेल के व्यापारी के होते तो उसके हाथ के स्पर्श से उनमें तेल का कुछ अंश होता। अतः कसाई का कथन सच प्रतीत होता था।
मुस्तफा — ठीक। और मेरे घोड़े के बारे में ? उसकी सच्चाई तुमने कैसे पहचानी ?
न्यायाधीश — श्रीमान ! वह एक कठिन कार्य था। आज सुबह तक मैं बहुत उलझन में था।
मुस्तफा — शायद यह लँगड़ा आदमी घोड़े को नहीं पहचान सका।
न्यायाधीश — इसके विपरीत, उसने घोड़े की और तुरन्त इशारा किया।
मुस्तफा — तब तुमने यह फैसला कैसे लिया कि वह मालिक नहीं था।
न्यायाधीश-श्रीमान, मैं आपको अस्तबल अलग से ले गया था वह देखने के लिए नहीं कि आप उसे पहचानते हैं या नहीं बल्कि यह देखने के लिए क्या घोड़ा आपकी ओर मुड़ता है, अपना सिर बाहर निकालता है। और उसने आपकी तरफ अनुराग से देखा। लेकिन जब उस लँगड़े आदमी ने उसे छुआ तो उसने उसमें कोई रुचि नहीं दिखाई। मैं समझ गया कि घोड़ा आपका है।
मुस्तफा — अल्लाह ने तुम्हें दूसरे लोगों से अधिक बुद्धिमानी दी है और तुम मेरा स्थान लेने के योग्य हो, किन्तु मैं तुम्हारा स्थान नहीं ले सकता। आज से तुम्हारा पद, मेरे बाद, सबसे बड़ा होगा। -गुमनाम .

The Wise Judge Word Meanings of Difficult Words

Learn something new every day.

On this blog you will get to learn something new every day.

Subscribe to our blog newsletter

1 thought on “MP Board Class 11th English The Spectrum Solutions Chapter 12 The Wise Judge”

  1. Pingback: MP Board Class 11th English The Spectrum Solutions Chapter 1 True Worship » Education Learn Academy

Leave a Reply