MP Board Class 9th General English The Spring Blossom Solutions Chapter 2 Kasturba Gandhi

MP Board Class 9th General English The Spring Blossom Solutions Chapter 2 Kasturba Gandhi

Kasturba Gandhi Textual Exercises

Word Power

(A) Rearrange the following jumbled letters to make meaningful words that come from the lesson
(दिए गए अक्षरों को व्यवस्थित करके अर्थपूर्ण शब्द बनाइए।)
Answer:

  1. roprupseso – prosperous
  2. socutm – custom
  3. drcsae – sacred
  4. einetr – entire
  5. epapall – appeal

(B) Fill in the blanks with appropriate words given in order to make a meaningful passage.
(रिक्त स्थान भरो।)
country, history, vow, footsteps, speeches, pledge, joined, custom, prosperous, accompanied
Answer:
Ramdin was a very honest and hard-working man. He worked day and night and became prosperous. He was very fond of reading. Once he read the life history of Gandhiji. He was very much impressed and thought of doing something for his country. He took a pledge to walk on the footsteps of Gandhiji. His wife, an active lady also joined him. She accompanied him wherever he went for social upliftment, though in those days the custom of accompanying one’s husband was forbidden. She gave speeches wherever she went and took a vow to uplift the position of Indian women.

How Much Have I Understood?

(A) Choose the correct option and complete the sentences
(सही विकल्प चुनो)

Question 1.
Kasturba Gandhi was married at the age of ………..
(a) thirteen
(b) eighteen
(c) twenty one
(d) twenty two.
Answer:
(a) thirteen

Question 2.
She was taught by her ………..
(a) father
(b) mother
(c) brother
(d) husband.
Answer:
(d) husband.

Question 3.
In 1942, she was arrested for protesting against the arrest of …………
(a) Nehruji
(b) Gandhiji
(c) Lokmanya Tilak
(d) Gopal Krishna Gokhale.
Answer:
(b) Gandhiji.

(B) Answer the given questions in one or two sentences.
(निम्न प्रश्नों के एक या दो वाक्यों में उत्तर दीजिए।)

Question 1.
Who was Kasturba Gandhi?
(हु वास् कस्तूरबा गाँधी?)
कस्तूरबा गाँधी कौन थी?
Answer:
Kasturba Gandhi was the daughter of a prosperous businessman of Porbander; (Kathiawar).
(कस्तूरबा गाँधी वॉज़ द डॉटर ऑफ अ प्रॉस्परस बिजनेसमैन ऑफ पोरबन्दर (काठियावाढ़।)
कस्तूरबा गाँधी पोरबन्दर के एक समृद्ध व्यापारी की पुत्री थीं।

Question 2.
Who was she married to?
(हू वॉज़ शी मैरिड टू?)
उनका विवाह किससे हुआ?
Answer:
She was married to Mohandas Karamchand Gandhi (Mahatma Gandhi).
(शी वॉज़ मैरिड टू मोहनदास करमचन्द गाँधी (महात्मा गाँधी))
उनका विवाह मोहनदास करमचन्द गाँधी (महात्मा गाँधी) से हुआ।

Question 3.
Why was she arrested in 1939?
(व्हाय वॉज़ शी अरैस्टिड इन 1939?)
उन्हें 1939 में बन्दी क्यों बनाया गया?
Answer:
In 1939, she was arrested for participating in the Rajkot Satyagraha.
(इन 1939, शी वॉज़ अरैस्टिड फॉर पार्टिसिपेटिंग इन द राजकोट सत्याग्रह।)
1939 में उन्हें राजकोट सत्याग्रह में भाग लेने के कारण बन्दी बनाया गया।

Question 4.
What kind of life did she live?
(व्हॉट काइन्ड ऑफ लाइफ डिड शी लिव?)
उन्होंने कैसा जीवन बिताया?
Answer:
She lived a simple and austere life.
(शी लैड अ सिम्पल एण्ड ऑस्टिअर लाइफ।)
उन्होंने एक सादा व संयमी जीवन बिताया।

Question 5.
What was her special appeal to the women?
(व्हॉट वॉज़ हर स्पैशल अपील टू द विमेन?)
स्त्रियों से उनका विशेष निवेदन क्या था?
Answer:
Her special appeal to the women was to spin and wear khadi, boycott government schools and colleges and remove untouchability.
(हर स्पैशल अपील टू द विमेन वॉज़ टू स्पिन एण्ड वियर खादी, बॉयकॉट गवर्नमेन्ट स्कूल्स एण्ड कॉलेजेज़ एण्ड रिमूव अन्टचेबिलिटी।)
उनका स्त्रियों से विशेष निवेदन यह था कि वे सूत कातें, खादी पहनें, शासकीय स्कूलों व कॉलेजों का बहिष्कार करें तथा अस्पृश्यता छोड़ें।

Question 6.
What happened on 22 February, 1944?
(व्हॉट हैपन्ड ऑन 22 फेब्रुअरी, 1944?)
22 फरवरी, 1944 को क्या हुआ?
Answer:
Kasturba died in detention on 22 February, 1944.
(कस्तूरबा डाइड इन डिटेन्शन ऑन 22 फेब्रुअरी, 19441)
कस्तूरबा का 22 फरवरी, 1944 को नजरबन्द कैद में देहान्त हुआ।

Question 7.
What great events happened in the years 1897, 1915, 1918, 1932, 1939, 1944?
(व्हॉट ग्रेट ईवेन्ट्स हैपन्ड इन द ईयर्स 1897, 1915, 1918, 1932, 1939, 1944?)
इन वर्षों में कौन-सी महान घटनाएँ घटी?
Answer:
(a) In 1897-Women’s Satyagraha in South Africa.
(इन 1897-विमेन्स सत्याग्रह इन साऊथ एफ्रिका)।
1897 में-दक्षिण अफ्रीका में स्त्रियों का सत्याग्रह।

(b) 1915-Indigo workers compaign in Champaran, Bihar
(इन 1915- इन्डिगो, वर्कर्स कैम्पेन इन चम्पारन, बिहार।)
1915 में-चम्पारन, बिहार में नील बनाने वाले मजदूरों का आन्दोलन।

(c) In 1918-No Tax Campaign in Kaira, Gujarat.
(इन 1918- नो टैक्स कैम्पेनं इन कैरा, गुजरात।)
1918 में-कर न अदा करने का गुजरात के कैरा में आन्दोलन।

(d) In 1932-Picketing liquor and foreign cloth shops.
(इन 1932-पिकेटिंग लिकर एण्ड फॉरेन क्लॉथ शॉप्स।)
1932 में-शराब व विदेशी वस्त्रों की दुकानों पर धरना।

(e) In 1939-Rajkot Satyagraha.
(इन 1939-राजकोट सत्याग्रह।)
1939 में-राजकोट सत्याग्रह।

(f) In 1944 Death of Kasturba Gandhi.
(इन 1944-डैथ ऑफ कस्तूरबा गाँधी।)
1944 में-कस्तूरबा गाँधी की मृत्यु।

Question 8.
Write, who said to whom and why?
“The true religion of a woman is to follow the footsteps of her husband like Sita……”
(राइट, हू सेड टू हूम एण्ड व्हाय? “द ट्र रिलिजन ऑफ अ वुमन इज़ टू फॉलो द फुटस्टेप्स ऑफ हर हज़बेण्ड लाईक सीता……”)
(बताओ ये शब्द किसने, किससे और क्यों कहे? “किसी स्त्री का वास्तविक धर्म सीता…..”)
Answer:
These words were said by Kasturba Gandhi to the women of Vadhtal village to inspire them to encourage their husbands for not paying their revenue dues so that India may win Swaraj.
(दीज व वर सेड बाइ कस्तूरबा गाँधी टू द विमेन ऑफ वधतल विलेज टू इन्सपायर देम टू एन्करेज देअर हस्बेन्ड्स फॉर नॉट पेइंग देअर रेवन्यू ड्यूज़ सो दैट इण्डिया मे विन स्वराज।)
ये शब्द कस्तूरबा गाँधी द्वारा वधतल गाँव की स्त्रियों को प्रेरित करने के लिए कहे गए थे जिससे वे अपने पतियों को बकाया राजस्व न देने के लिए प्रोत्साहित करें ताकि भारत स्वराज प्राप्त कर सके।

(C) Write the answer to the following questions in four or five sentences
(चार या पाँच वाक्यों में उत्तर लिखिए।)

Question 1.
What did Kasturba address the women, of Vadhtal Village?
(व्हॉट डिड कस्तूरबा अड्रेस द विमेन ऑफ वधतल विलेज?)
कस्तूरबा ने वधतल की स्त्रियों से क्या कहा?
Answer:
Addressing the women of Vadhtal village, she said, “The true religion of a woman is to follow the footsteps of her husband like sati Sita. If she also encourages her husband to stick to the sacred pledges (of non-payment of the revenue dues) her progeny is sure to be brave and India will then win Swaraj.”

(अड्रेसिंग द विमेन ऑफ वधतल विलेज, शी सेड, “द ट्र रिलीजन ऑफ अ वुमन इज़ टू फॉलो द फुटस्टेप्स ऑफ हर हस्बेन्ड लाइक सती सीता। इफ शी ऑल्सो एन्करेजेज़ हर हस्बेन्ड टू स्टिक टू द सेकरेड प्लैजेज (ऑफ नन पेमेन्ट ऑफ द रेवन्यू ड्यूज़) हर प्रोजेनी इज़ श्योर टू बी ब्रेव एण्ड इन्डिया विल देन विन स्वराज।”)

वधतल गाँव की स्त्रियों को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि स्त्रियों का सच्चा धर्म सती सीता की तरह अपने पति के पद चिन्हों पर चलना है। यदि वह अपने पति को अपनी पवित्र प्रतिज्ञा (राजस्व न चुकाने की प्रतिज्ञा) पर दृढ़ रहने के लिए प्रोत्साहित भी करती हैं तो उनकी संतति बहादुर होगी और तभी भारत स्वराज जीत सकेगा।

Question 2.
Mention the date (s) and reason (s) for Kasturba Gandhi’s arrests on different occasions.
(मेन्शन द डेट्स एण्ड रीजन्स फोर कस्तूरबा गाँधीज, अरेस्ट्स ऑन डिफ्रेन्ट ओकेजन्स।)
विभिन्न अवसरों पर कस्तूरबा गाँधी की गिरफ्तारी का दिनांक तथा कारण बताइए।
Answer:
Kasturba Gandhi was arrested in:
(कस्तूरबा गाँधी वॉज़ अरेस्टेड इन)
कस्तूरबा गाँधी की गिरफ्तारी हुई थी:

(a) In 1931 and 1932-for picketing liquor and foreign cloth shops.
(इन 1931 एण्ड 1932-फॉर पिकेटिंग लिकर एण्ड फॉरेन क्लॉथ शॉप्स।)
1931 व 1932 में-शराब व विदेशी वस्त्र की दुकानों पर धरना देने के लिए।

(b) In 1939-For participating in Rajkot Satyagraha.
(इन 1939-फोर पार्टिसिपेटिंग इन राजकोट सत्याग्रह।)
1939 में-राजकोट सत्याग्रह में भाग लेने के लिए।

(c) In August 1942-When proceeding to address a meeting of protest against the arrest of her husband.
(इन ऑगस्ट 1942 – व्हेन प्रोसीडिंग टू अड्रेस अ मीटिंग ऑफ प्रोटेस्ट अगेन्स्ट द अरैस्ट ऑफ हर हस्बेन्ड।)
अगस्त 1942 में-अपने पति की गिरफ्तारी के विरुद्ध सभा को सम्बोधित करने जाते समय।

Language Practice

Fill up the gaps with suitable prepositions given in the brackets (in, on, to, from, for till, after, with, at)
(रिक्त स्थान भरिए।)
Answer:
Rahul : Sir, where are we going this Sunday?
Mr. Khanna : The school is planning to take you to a dam.
Rahul : Which dam? Where is it?
Mr. Khanna : I can’t tell right now. It may be in Bhopal.
Rahul : What shall we do there?
Mr. Khanna : We’ll play games at there ground.
Rahul : How long are we going to stay there?
Mr. Khanna : We are going to stay there till 50’clock.
Rahul : May I take my younger brother along with me?
Mr. Khanna : No, You can’t. It’s a school picnic. Moreover we are going to a dam and you will be busy with your friends. Then, who is going to look after him?
Rahul : At what time are we going to leave?
Mr. Khanna : Go and get the information from the office.

Listening Time

(A) Write down the meaning against the words given below.
(शब्दों के सम्मुख उनके अर्थ लिखिए।)

  1. bear tolerate  – bare not wearing clothes.
  2. too in addition – to in the direction of.
  3. vein a blood vessel  – vain useless or meaningless.
  4. hair fine thread like strands growing from with very long the skin of mammals and other animals. – hare an animal hind legs.
  5. dear much loved  – deer a hoofed animal

(B) Your teacher will read out the directions, sentence by sentence on how to draw pictures. Draw what you hear.
(शिक्षक के निर्देश सुनकर आकृति बनाओ।)
Answer:
Students should do themselves with the help of their teacher.
(छात्र शिक्षक के निर्देशन में स्वयं करें।)

Speaking Time

Speak at least 5 sentences about your friend using these words
(अपने मित्र पर दिये गये शब्दों की सहायता से 5 वाक्य बोलो।)
honest, beautiful, handsome, hardworking sincere, courageous, tall, clever, civilized gentle.
Answer:
Students can do themselves.
(छात्र स्वयं करें।)

Writing Time

Do you know any simple minded person like Kasturba? Write at least a paragraph about him/her with the help of this lesson.
(किसी सादे व्यक्ति पर एक अनुच्छेद लिखो।)
Answer:
Students can write about any person around them themselves.
(छात्र स्वयं करें।)

Things to do

Paste the pictures of Indira Gandhi, Mother Teresa and Laxmi Bai. Write a paragraph on each one of them.
Answer:
Students should do themselves.
(छात्र स्वयं करें।)

Kasturba Gandhi Difficult Word Meanings 

prosperous (प्रॉस्परस)-rich and successful समृद्ध; indigo (इंडिगो)-dark blue dye नील; campaign (कैम्पेन)-a series of planned activities that are intended to achieve a particular social, commercial or political aim अभियान; progeny (प्रोजैनी)-a person’s children सन्तान; picketing (पिकोटिंग)-the activity of standing outside the entrance to a building in order to protest about something and stop people from entering that building धरना, आन्दोलन; protest (प्रोटेस्ट)-opposition to something विरोध; detention (डिटेन्शन)-the state of being kept in a place, especially a prison and prevented from leaving कैद; austere (ऑस्टीर)-simple and plain सीधा-सादा।

Kasturba Gandhi Summary, Pronunciation & Translation

[1] Kasturba Gandhi was the daughter of a prosperous businessman of Porbander (Kathiawar). She was married at the very young age of thirteen to Mohandas Karamchand Gandhi. Her father was a strong believer in prevalent customs and traditions. He did not believe in educating her. After her marriage, it was her husband who taught her to read and write. In 1897, she joined her husband in South Africa and worked there till 1914. Along with her husband, she led the women’s satyagraha there for which she was imprisoned.

(कस्तूरबा गाँधी वॉज द डॉटर ऑफ अ प्रॉस्परस बिज़िनेस मेन ऑफ पोरबन्दर (काठियावाड)। शी वाज़ मेरिड एट द वेरी यंग एज ऑफ थर्टीन टु मोहन दास करमचन्द गाँधी। हर फॉदर बाज़ अ स्ट्रांग बिलीवर इन प्रिविलेन्ट कस्टम्स एण्ड ट्रेडिशन्स। ही डिड नॉट बिलीव इन एजुकेटिंग हर। ऑफ्टर हर मेरिज, इट वाज़ हर हसबेंड हू टॉट हर टु रीड एण्ड राइट। इन 1897 शी जॉइन्ड हर हसबंड इन साउथ अफ्रीका एण्ड वर्ल्ड देअर टिल 1914। अलांग विथ हर हसबेंड, शी लेड द वीमन्स सत्याग्रह देयर फोर विच शी वाज़ इम्प्रिजन्ड।)

हिन्दी अनुवाद :
कस्तूरबा गाँधी पोरबन्दर (काठियावाड़) के एक धनवान व्यापारी की पुत्री थी। 13 वर्ष की बाल उम्र में ही उनका विवाह मोहनदास करमचन्द गाँधी से हो गया था। उनके पिता प्रचलित रीति-रिवाजों में अटूट विश्वास रखते थे। वे कस्तूरबा की शिक्षा में विश्वास नहीं करते थे। विवाह के पश्चात् उनके पति ने ही उन्हें लिखना-पढ़ना सिखाया। 1897 में वे अपने पति के साथ दक्षिण अफ्रीका रहने चली गयीं और वहाँ 1914 तक काम करती रहीं। अपने पति के साथ उन्होंने महिला सत्याग्रह आन्दोलन का नेतृत्व किया जिसके कारण उनको बन्दी बनाया गया।

[2] On his return to India in 1915, Kasturba joined her husband, Gandhi in the cause of the indigo workers in Champaran, Bihar and took an active part in the No Tax Campaign in Kaira, Gujarat in 1918.

(ऑन हिज़ रिटर्न टु इंडिया इन 1915, कस्तूरबा जॉइन्ड हर हसबेण्ड, गाँधीजी इन द कॉज़ ऑफ दी इंडिगो वर्कर्स इन चम्पारन, बिहार, एण्ड टुक ऐन एक्टिव पार्ट इन द नो टेक्स केम्पेन इन कैरा, गुजरात इन 1918)

हिन्दी अनुवाद :
1915 में भारत वापस आने पर कस्तूरबा ने गाँधी जी के बिहार के चम्पारन में नील (कपड़ों को लगाने वाला) की खेती करने वाले मजदूरों के आन्दोलन में अपने पति गाँधी जी का साथ दिया तथा गुजरात के कैरा में 1918 में टैक्स न देने के आन्दोलन में भी सक्रिय हिस्सा लिया।

[3] Kasturba not only took part in the campaign but also delivered significant speeches wherever she went. For instance, addressing the women of Vadhtal Village on 6 April 1918; she said : “the true religion of a woman is to follow the footsteps of her husband like Sita. If she also encourages her husband to stick to the sacred pledges (of non-payment of the revenue dues) her progeny is sure to be brave and India will then win swaraj.”

(कस्तूरबा नाट ओनली टुक पार्ट इन द कैम्पेन बट अल्सो डिलीवर्ड सिग्निफिकेंट स्पीचेस व्हेअरेवर शी वेन्ट फोर इन्सटेन्स, एड्रेसिंग द वीमेन ऑफ वढ़तल वीलेज ऑन 6 अप्रिल 1918, शी सेड “द ट्र रिलिजन ऑफ अ वुमन इज़ टु फॉलो द फुटस्टेप्स ऑफ हर हसबेंड लाइक सीता। इफ शी अल्सो इनकरेजेस हर हसबेण्ड टु स्टिक टु द सेक्रेड प्लींजेस (ऑफ नन-पेमेन्ट ऑफ द रेवेन्यू ड्यूज) हर प्रोजेनी इज़ श्युअर टु बी ब्रेव एण्ड इंडिया बिल देन विन स्वराज।)

हिन्दी अनुवाद :
कस्तूरबा ने आन्दोलन में न केवल हिस्सा लिया बल्कि वे जहाँ-जहाँ गईं वहाँ-वहाँ उन्होंने बहुत महत्त्वपूर्ण भाषण भी दिये। उदाहरण के लिए 6 अप्रैल, 1918 को वढ़तल ग्राम की सभा में वहाँ की महिलाओं को सम्बोधित करते हुए कहा-“किसी महिला का सही धर्म अपने पति के चरण चिन्हों पर सीता के समान चलना है। यदि वह अपने पति को पवित्र वचन पर (लगान की बकाया रकम को नहीं चुकाना) दृढ़तापूर्वक चलने के लिए प्रोत्साहित करती है तो उसकी आने वाली सन्तान बहादुर होगी और तब भारत स्वराज को जीतेगा।”

[4] In the First Non-coperation Movement launched by Gandhiji, she accompanied him and went from village to village. Along with her husband, she made a special appeal to women, asking them to spin and wear khadi, boycott government schools and colleges and remove untouchability. She was arrested in 1931 and again in 1932, for picketing liquour and foreign cloth shops.

(इन द फर्स्ट नन-कोआपरेशन मूवमेंट लॉन्च्ड बाय गाँधीजी, शी एकम्पनिड हिम एन्ड वेन्ट फ्रॉम विलेज टु विलेज। अलांग विद हर हसबेन्ड शी मेड ए स्पेशल अपील टु वीमेन आस्किंग देम टु स्पिन एंड वीअर खादी, बायकॉट गवर्नमेंट स्कूल्स एण्ड कॉलेजेस एण्ड रिमूव अनटचेबिलिटी। शी वाज अरेस्टेड इन 1931 एण्ड अगेन इन 1932, फोर पिकेटिंग लिक्वर एण्ड फॉरेन क्लॉथ शाप्स।)

हिन्दी अनुवाद :
गाँधीजी द्वारा प्रारम्भ प्रथम असहयोग आन्दोलन में वे गाँधीजी के साथ गाँव-गाँव गईं। अपने पति के साथ उन्होंने महिलाओं से विशेष अपील की कि वे सूत कातें, खादी पहनें, सरकारी स्कूल कालेजों का बहिष्कार करें तथा अस्पृश्यता को दूर करें। उन्हें 1931 में और फिर 1932 में शराब व विलायती वस्त्रों के विरुद्ध लोगों को रोकने के प्रयासों में गिरफ्तार किया गया।

[5] In 1939, she was arrested for participating in the Rajkot Satyagraha and was released only when Mahatma Gandhi began his fast. She was again arrested in August 1942, when proceeding to address a meeting of protest against the arrest of her husband and was lodged in a detention camp along with her husband in Pune. She looked after her husband when he undertook a twenty-one day fast in February 1943. Her health gradually broke down and she died in detention on 22 February 1944. During her entire life she worked whole-heartedly for the welfare of people and the removal of untouchability. She lived a simple and austere life.

(इन 1939 शी वाज़ अरेस्टेड फोर पार्टीसिपेटिंग इन द राजकोट सत्याग्रह एण्ड वॉज़ रिलीज़्ड व्हेन महात्मा गांधी बिगेन हिज फास्ट। शी वाज़ अगेन अरेस्टेड इन ऑगस्ट 1942 व्हेन प्रोसिडिंग टु एड्रेस अ मीटिंग ऑफ प्रोटेस्ट अगेन्स्ट दी अरेस्ट ऑफ हर हस्बेंड एण्ड वाज लॉज्ड इन अ डिटेशन केम्प अलांग विद हर हस्बेण्ड इन पुने। शी लुक्ड ऑफ्टर हर हसबेंड व्हेन ही अण्डरटुक अ टवेन्टी वन डे फास्ट इन फेब्रुअरी 1943. हर हेल्थ ग्रेजुअली ब्रोक डाउन एण्ड शी डाइड इन डिटेन्शन ऑन 22 फेब्रुअरी 1944. ड्यूरिंग हर इन्टायर लाइफ शी वड होल-हार्टेडली फोर द वेलफेयर ऑफ पीपुल एण्ड रिमूवल ऑफ अनटचेबिलीटी। शी लिव्ड अ सिंपल एण्ड ऑस्टीयर लाइफ।)

हिन्दी अनुवाद :
1939 में राजकोट सत्याग्रह में भाग लेने के लिए उन्हें गिरफ्तार किया गया और उन्हें तभी मुक्त किया गया जब गाँधीजी ने अपना उपवास शुरू किया। उन्हें अगस्त 1942 में जब वे अपने पति की गिरफ्तारी के विरुद्ध एक सभा को सम्बोधित करने जा रही थीं, पुनः गिरफ्तार किया गया और उन्हें पूना में उनके पति के साथ बन्दीगृह में रखा गया। फरवरी 1943 में जब गाँधीजी ने 21 दिन का उपवास का व्रत किया तब उन्होंने गाँधीजी की खूब देखभाल की। धीरे-धीरे उनका स्वास्थ्य खराब होता गया और 11 फरवरी, 1944 को उन्होंने बंदीगृह में ही प्राण त्याग दिये। अपने सम्पूर्ण जीवन में वे पूर्णत: हार्दिक रूप से जन कल्याण के लिए व छुआछूत मिटाने के लिए कार्य करती रहीं। उन्होंने एक सादा व संयमी जीवन बिताया।

Learn something new every day.

On this blog you will get to learn something new every day.

Subscribe to our blog newsletter

Leave a Reply