सरकार की एडवाइजरी / होम्योपैथिक दवा ‘आर्सेनिक एल्बम-30’ कोरोनावायरस के संक्रमण को फैलने से रोकेगी

होम्योपैथी की ‘आर्सेनिक एल्बम-30’ को 3 दिन तक खाली पेट लेने से फायदा होगाकोरोना संक्रमण कायम रहने पर एक माह बाद खुराक दोबारा ली जा सकती है

जयपुर. केरल में रविवार को कोरोनावायरस का दूसरा मामला सामने आने पर खतरा चारों तरफ मंडराने लगा है। बंगाल सरकार ने भी इस वायरस से प्रभावित 8 मरीजों की पहचान की है। इसबीच, आयुष मंत्रालय ने बचाव के लिए एडवायजरी जारी की है। समय रहते बचाव कर लेने पर गंभीर परिणामों से बचा जा सकता है। सेंट्रल काउंसिल फॉर रिसर्च इन होम्योपैथी के वैज्ञानिक सलाहकार बोर्ड ने कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए होम्योपैथी की ‘आर्सेनिक एल्बम-30’ को 3 दिन तक खाली पेट लेने पर कारगर माना है।

संक्रमण कायम रहने पर एक माह बाद खुराक को दोबारा लिया जा सकता है। इन्फ्लूएंजा जैसी बीमारी की रोकथाम के लिए भी इस दवा की खुराक ली जा सकती है। आयुष मंत्रालय के मुताबिक, तुलसी, काली मिर्च और पिप्पली जैसी आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां लोगों का बचाव कर सकती हैं। यूनानी दवाओं में शरबतउन्नाब, तिर्यकअर्बा, तिर्यक नजला, खमीरा मार्वारिद जैसी दवाओं को लेने की सलाह दी गई है। एडवाइजरी में आमजन को साफ-सफाई से रहने की सलाह दी है। यूनानी डॉक्टरों ने कोरोनावायरस के बचाव के लिए सुपाच्य, हल्का एवं नरम आहार की सलाह दी है।

ये उपाय करने की सलाह

आयुर्वेदिक: पिप्पली, काली मिर्च और सोंठ का 5 ग्राम पाउडर और तुलसी की 3 से 5 पत्तियों को 1 लीटर पानी में तब तक उबालें, जब तक पानी आधा लीटर न हो जाए। इसके बाद पानी को एक बोतल में भरकर रख लें और धीरे-धीरे पिएं। शेषमणि वटी 500 मिलीग्राम रोजाना दिन में 2 बार लेना। बिना डॉक्टर की सलाह के नहीं लें। सुबह के समय तिल के तेल की दो बूंद नाक में डालें।

होम्योपैथी: आर्सेनिक एल्बम-30 होमियोपैथी दवा से कोरोना वायरस संक्रमण से बचा सकता है।

होम्योपैथिक दवा ‘आर्सेनिक एल्बम-30′ कोरोनावायरस के संक्रमण को फैलने से रोकेगी!

एडवाइजरी में कहा गया है कि सेंट्रल काउंसिल फॉर रिसर्च इन होम्योपैथी (CCRH) ने 28 जनवरी 2020 को अपने वैज्ञानिक सलाहकार बोर्ड की 64वीं बैठक में कोरोनोवायरस संक्रमण से बचाव के तरीकों और साधनों पर चर्चा की. विशेषज्ञों के इस समूह ने बताया किआयुष मंत्रालय द्वारा सेंट्रल काउंसिल फॉर रिसर्च इन होम्योपैथी (CCRH) ने कोरोनोवायरस संक्रमण से बचाव के लिए होमियोपैथी दवा (Homeopathy Medication To Prevent Coronovirus) आर्सेनिकम एल्बम 30 ( Arsenicum Album30) के सेवन की सलाह दी है.वजन घटाने और डायबिटीज कंट्रोल करने लिए फलों और सब्जियों का जूस पीने की बजाय खाएं साबुत, जानें जूस न पीने के 4 कारण!

कोरोनावायरस संक्रमण से बचाव (Coronavirus Infection Prevention) के लिए यह होमियोपैथिक दवा (Homeopathic Medicine) कारगर हो सकती है. बोर्ड ने कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए होम्योपैथी की ‘आर्सेनिक एल्बम-30’ को 3 दिन तक खाली पेट लेने पर कारगर माना है.

कोरोना वायरस के लक्षण पहचानें और रहें सतर्क

  •     बहुत अधिक खांसी और जुकाम होना.
  •     शरीर में तेज दर्द के साथ कमजोरी.
  •     किडनी और लिवर में तकलीफ.
  •     निमोनिया के लक्षण सामने आना.
  •     पाचन क्रिया में तकलीफ शुरू होना.
  •     अचानक बुखार और सांस लेने में तकलीफ.

रामफल खाने से कंट्रोल होगा डायबिटीज, हाई ब्लड शुगर लेवल के लिए भी फायदेमंद, जानें रोजाना रामफल खाने के 4 कारण!

Coronavirus Homeopathic Medicine: आयुष मंत्रालय ने होमियोपैथी दवा आर्सिनिक एल्बम 30 को कारगर माना है


कोरोना वायरस से बचने के लिए इन बातों का रखें ध्यान

  1.     बार-बार आंख, नाक मुंह छूने से बचें.
  2.     सार्वजनिक स्थानों पर जाने से पहले एन-95 मास्क पहनें.
  3.     संक्रमित लोगों से दूरी बनाकर रखें.
  4.     सर्दी, जुकाम, बुखार और कफ होने पर अस्पताल जरूर जाएं.
  5.     20 सेकंड तक साबुन से हाथ धुलें.
  6.     साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें.
  7.     एक इंसान से दूसरे में फैलता है.

क्‍यों होता है सेक्‍स के दौरान दर्द और इससे कैसे बचें

कोरोना वायरस से ऐसे करें बचाव

  •     3 से 6 फुट की दूरी बना भीड़भाड़ में चलें.
  •     बार-बार हाथ धोते रहें ताकि कीटाणु न फैलें.
  •     सार्वजनिक वाहन से यात्रा के दौरान दस्ताने पहनें.
  •     मुंह पर मास्क पहनकर रखें, नियमित बदलते रहें.
  •     भीड़भाड़ या अस्पताल वाले क्षेत्रों में जाने से बचें.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *